Skip to main content

Lorem Ipsum is simply dummy text of the printing and typesetting industry. Lorem Ipsum has been the industry's standard dummy text ever since the 1500s, when an unknown printer took a galley of type and scrambled it to make a type specimen book. It has survived not only five centuries, but also the leap into electronic typesetting, remaining essentially unchanged. It was popularised in the 1960s with the release of Letraset sheets containing Lorem Ipsum passages, and more recently with desktop publishing software like Aldus PageMaker including versions of Lorem Ipsum.

vivekanand-2

12 January 2013 Shimla - स्वामी विवेकानन्द जी की 150वीं जयंती हिमाचल में श्रद्धा एवं धूमधाम से मनाई गई। 12 जनवरी का दिन था और प्रदेष के विभिन्न भागों में वन्दे मातरम्, भारत माता की जय और नन्द के आन्नद की, जय विवेकानन्द की के नारों गूंज उठा।

12 January 2013  अजमेर - आध्यात्मिक गुरु विवेकानंद की 150वीं जयंती के अवसर पर पूरे वर्ष भर चलने वाले समारोह का शनिवार को शोभा यात्रा के साथ आगाज हुआ। इस अवसर पर शहर में चार स्थानों से शोभायात्रा निकाली गई। ये शोभायात्राएं स्वामी विवेकानंद के जीवन के विभिन्न प्रसंगों पर आधारित थी। इस दौरान पूरा शहर विवेकानंदमय हो गया।

13 January 2013 - पूर्व मुख्यमंत्री एवं नेता प्रतिपक्ष प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने कहा कि हिंदुत्व का प्रतिनिधित्व करने वालों को कुछ लोग सांप्रदायिक की संज्ञा देते है। लेकिन लोग जो भी कहें सभी धर्म और समाज एक है।

12 January 2013 - आज के वैश्विक व सामाजिक उथल पुथल के कालखंड में भारत वर्ष के युवाओं को पुन: स्वामी विवेकानंद के आदर्शों को अपनाने की आवश्यकता है। यह कहना है एचएससीएल के अधिशासी निदेशक रामाधार झा का। वे सार्ध शती आयोजन समिति के तत्वावधान में आयोजित शोभा यात्रा के बाद मजदूर मैदान सेक्टर चार में 150वीं जयंती समारोह में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे।

12 January 2013 नागपुर - स्वामी विवेकानंद यांच्या १५० व्या जयंतीनिमित्त देशातील विविध शहरांमध्ये मोठ्या प्रमाणावर वेगवेगळ्या कार्यक्रमांचे आयोजन करण्यात आल (१) गुवाहाटी येथे काढण्यात आलेल्या शोभायात्रेत विवेकानंदांची वेशभूषा करून १५० विद्यार्थी सहभागी झाले होते.

Subscribe to Dainik Bhaskar

Get involved

 

Be a Patron and support dedicated workers for
their Yogakshema.

Join in Nation Building
by becoming teacher in North-East India.

Doctors are required
in IOCL Vivkenanda
Kendra's Hospital.

Opportunities for the public to cooperate with organizations in carrying out various types of work